प्रेग्नेंसी से जुड़े कुछ ऐसे झूठ, जिन्हें आप मानते हैं सच, आइये जानते हैं इनके पीछे की वजह

प्रेग्नेंसी वो दौर है, जो किसी महिला को सबसे अलग महसूस कराता है। प्रेग्नेंसी के दौरान ना केवल महिला खुद का ध्यान रखती है, बल्कि घरवाले भी उसका खूब ख्याल रखते हैं। आपने देखा होगा कि अक्सर प्रेग्नेंट वूमन को लोग काफी सलाह देते हैं। कि ये खाओ, वो खाओ, ऐसा मत करो, तुम्हें ये करना चाहिए बगैरह- बगैरह। वहीं प्रेग्नेंसी को लेकर कई ऐसी भ्रांतियां अब भी हमारे समाज में फैली हुई है, जिसका वास्तविकता से कोई संबंध नहीं होता। सदियों से चली आ रही भ्रांतियां अब भी हमारे समाज में बरकरार है। आइये आपको बतातें हैं प्रेग्नेंसी से जुड़े कुछे सच्चे और झूठे राज-

अगर आप भी ATM से कैश निकालने जा रहे है तो आप भी पढ़े ये खबर, आपके साथ भी हो सकता है ऐसा

1. बच्चे की फोटो- कहा जाता है कि प्रेग्नेंसी के वक्त होने वाली मां के कमरे में सुंदर बच्चों की तस्वीर लगी होनी चाहिए। जिससे होने वाला बच्चा भी तस्वीर वाले बच्चे की तरह ही खूबसूरत पैदा होता है। लेकिन ये बात बिल्कुल गलत है। बच्चे की बनावट उसके जेनेटिक पर निर्भर होती है। बच्चे की तस्वीर लगाने के पीछे का राज ये है कि इससे होने वाली मां को पॉजिटीव एनर्जी मिलती है, जो उनके लिए काफी जरूरी होती है।

pregnent

2. दूध पीना- अक्सर आप ने बड़े- बुजुर्गों को ये कहते सुना होगा कि प्रेग्नेंसी के वक्त दूध पीने से बच्चा भी दूध की तरह ही सफेद पैदा होता है। अगर ऐसा होने लगे तो फिर दुनिया में कोई बच्चा काला पैदा हो ही ना। दूध पीना गर्भवती महिलाओं के स्वास्थ्य के लिए अच्छा होता है।

3. बच्चे के लिंग का पूर्वानुमान- अक्सर बड़े- बुढ़े गर्भवती महिलाओं के खान- पान या चलने से उसके गर्भ में पल रहे बच्चे का पूर्वानुमान लगाते हैं। असल में ऐसा कोई आधार या लक्षण नहीं है जिससे ये निर्धारित हो कि गर्भ में पल रहा बच्चा लड़का है या लड़की।

4. तैलीय पदार्थ का सेवन- कहते हैं कि प्रेग्नेंट वूमन को ऑयली यानी कि तैल वाली चीजें जैसे- घी, मक्खन ज्यादा खाना चाहिए, जिससे डिलीवरी में आसानी होती है। ये सच नहीं है बल्कि इससे सिर्फ कैलोरी बढ़ती है।

अगर आपकी भी आपके बीवी से रोज झगड़े हो रहे है तो अपने ये Astro tips!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *